1. संरचनावाद के जनक व उनकी खोज 


    यह मनोविज्ञान का पहला संप्रदाय है जिसकी स्थापना अनौपचारिक रूप से 1879 में लिपजिंगमे ईंट द्वार तथा औपचारिक 1898 में टिचनर के द्वारा हुयी।


    इन्होंने चेतन अनुभूति (Conscious experience) तथा विधि-अन्त:निरीक्षण (Introspection) को विषयवस्तु माना।


    इस स्कूल या सम्प्रदाय · ने मनोविज्ञान के लिए प्रयोगात्मक अध्ययन का मार्ग खोला।


    2. प्रकार्यवाद के जनक व उनकी खोज 


    स्थापनाः 1899 में अमेरिका में बाद में दो शाखाएं (1) शिकागो प्रकार्यवाद (2) कोलंबिया प्रकार्यवाद। शिकागो प्रकार्यवाद में, जॉन डिवी, विलियम जेम्स


    कोलम्बिया प्रकार्यवाद में, वुडवर्थ, यार्नडाइक कोलम्बिया विश्वविद्यालय में शिक्षक प्रशिक्षण महाविद्यालय की स्थापना से शिक्षा मनोविज्ञान की नींव मजबूत हुयी तथा शिक्षा मनोविज्ञान स्वतंत्र रूप से अस्तित्व में आया।


    थॉर्नडाइक अपने गुरु फैटल से बहुत प्रभावित थे।

    1903 में उन्होंने शिक्षा मनोविज्ञान (Educational Psychology) पुस्तक लिखी। सीखने के सिद्धांत, अधिगम स्थानातरण, समान संघटक सिद्धांत, आदि दिये।


    3. गेस्टाल्टवाद के जनक व उनके योगदान 


    स्थापनाः 1012 में जर्मनी में वरदाइमर, कोहलर, कोम्का


    विषयवस्तुः पूर्णता


    विधिः गेस्टाल्ट अध्यापन विधि (पूर्व अनुभव) सूझ का सिद्धांत, शिक्षण, चिंतन पर कार्य


    4. व्यवहारवाद के जनक व उनके योगदान 


    .  स्थापनाः 1912 के लगभग 

    . जे.बी. वॉटसन 

    . विषयवस्तुः व्यवहार

    . विधिः बाल निरीक्षण

    उत्तरकालीन व्यवहारवादी: स्किनर, टौलमैन,गवरी हल

    . अधिगम का साधनात्मक व क्रिया प्रसूत सिद्धात प्रोग्राम सीखने पर बल
    .
    भाषा विकास में imitation (अनुकरण) महत्त्वपूर्ण होता है